प्रदर्शन

वर्ष 2020 में माल एवं सेवा कर आसूचना महानिदेशालय का प्रदर्शन

डीजीजीआई ने पिछले तीन वर्षों में 1.19 लाख करोड़ रुपये से अधिक की कर धोखाधड़ी का पता लगाया है और ऐसे कर की चोरी के मामलों में उनतीस हजार करोड़ रुपये से अधिक की वसूली की है। डीजीजीआई ने कई तरह के तौर-तरीकों का पता लगाया है जिसके द्वारा कर चोरी की गई थी जैसे (i) कर योग्य वस्तुओं और सेवाओं का कम मूल्यांकन करके कर का कम भुगतान, (ii) छूट अधिसूचनाओं का गलत लाभ, (iii) इनपुट का गलत लाभ / गैर-प्रत्यावर्तन कर क्रेडिट, (iv) कर योग्य वस्तुओं और सेवाओं की आपूर्ति पर कर का भुगतान न करना (गुप्त निष्कासन), (v) कर एकत्र किया गया लेकिन सरकार को भुगतान नहीं किया गया। राजकोष, (vi) रिवर्स चार्ज मैकेनिज्म के तहत कर का भुगतान न करना, (vii) नकली फर्मों से चालान के आधार पर इनपुट टैक्स क्रेडिट का धोखाधड़ी से लाभ, (viii) माल के निर्यात पर IGST की वापसी का धोखाधड़ी का लाभ, आदि।